वाराणसी। चौक थानाक्षेत्र के चाहमहमा स्थित ख्वाजा नब्बू साहब के इमामबाड़े से आठवीं मुहर्रम (8 सितंबर) का जुलूस अलम व मौला अब्बास की शबीहे तुर्बत अपनी शान ओ शौकत के साथ उठाया गया।

विज्ञापन
Loading...

जुलूस उठने से पूर्व अब्बास मुर्तजा शम्सी ने मजलिस को खिताब करते हुए मौला अब्बास की बहादुरी वा वफा का ज़िक्र किया । जुलूस उठने पर शराफत अली खां व लियाकत अली खां व उनके साथियो ने सवारी शुरू की – “जब हाथ कलम हो गए सक्काए हराम के ” । जुलूस इमामबाड़े से निकलकर चहमहमा , पथारगलिया होते हुए दालमंडी स्थित हकीम काजिम साहब के आवास पहुंचा जहां से अंजुमन हैदरी चौक ने नौहाख्वनी व मातम शुरू किया।

जुलूस के आगे पूरे रास्ते उस्ताद फतेह अली खां व उनके साथी शहनाई पर आंसुओ का नज़राना पेश किया। इस जुलूस का संयोजन मुनाजिर हुसैन ने किया । जुलूस नई सड़क खजूर वाली मस्जिद , फाटक शेख सलीम , कली महल, पितरकुंडा, लल्लापुरा होते हुए फातमान पहुंचा तथा पुनः लल्लापुरा, लहंगपुरा, रांगे की ताजिया, औरंगाबाद ,नई सड़क कपड़ा मंडी,कोदई चौकी, सर्राफा गली , टेढ़ी नीम ,कुंजीगर टोला, चौक, दालमंडी , चाहमहमा होते हुए इमामबारगाह ख्वाजा नब्बू में समाप्त हुआ ।

Loading...