पितृपक्ष : इस बार सिर्फ 14 दिन ही भू-लोक पर रहेंगे पितर, पिशाचमोचन कुंड पर तैयारियां शुरू

13 सितंबर से शुरू होगा पितृपक्ष, त्रयोदशी का लोप होने से होगा 14 दिनों का पखवारा
पिशाचमोचन कुंड पर तैयारियां पूरी, गंगा घाटों पर भी तर्पण करेंगे श्रद्धालु

वाराणसी। पितरों का पखवारा यानी पितृपक्ष शुक्रवार 13 सितंबर से शुरू हो जाएगा। त्रयोदशी तिथि का लोप होने के कारण इस बार पखवारा 14 दिनों का ही होगा। मान्‍यता है कि इस पखवारे में आपके सभी पितर मेहमान बनकर धरती पर आते हैं। आपके तर्पण से प्रसन्‍न होकर वह आशीर्वाद देकर लौट जाते हैं। इस पखवारे में पितरों को प्रसन्‍न करने वाला व्‍यक्ति रोग-व्‍याधि और तमाम परेशानियों से दूर रहता है। उसकी आने वाली पीढ़ी भी कष्‍टों से मुक्‍त रहती है।

ऐसे करें पितरों को प्रसन्‍न
पितृपक्ष इस बार 28 सितंबर तक चलेगा। मान्‍यताएं हैं कि पितृपक्ष में यमराज सभी आत्‍माओं को मुक्‍त कर देते हैं। ताकि वह अपने स्‍वजनों के यहां जा सकें और उनसे तर्पण ग्रहण कर संतुष्‍ट हो सकें। विशिष्‍ट तिथियों पर तर्पण के लिए तिल, जौ, कुश आदि के साथ तर्पण से पितर प्रसन्‍न होते हैं और स्‍वजनों को वह कष्‍टों से मुक्‍त रखते हैं। जिनकी मृत्‍यु की तिथि अज्ञात होती है, उनके लिए सर्वपित्र विसर्जन या महालया के दिन तर्पण किया जाता है।

पिशाचमोचन कुंड का महात्‍म्‍य
चेतगंज स्थित पिशाचमोचन कुंड पर यूं तो सालभर श्राद्धकर्म करने वालों की भीड़
रहती है मगर पितृपक्ष में यहां का महत्‍व बढ़ जाता है। कहते हैं कि यह कुंड गंगा के अवतरण से पहले का है। काशीखंड में भी इसका उल्‍लेख मिलता है। पौराणिक कहानियों में पिशाच नामक ब्राह्मण और ज्ञानदास नामक दैत्‍य के मोक्ष की कहानी भी मिलती है।

कुंड पर श्राद्धकर्म की तैयारियां पूरी
पिशाचमोचन कुंड के महंत मुन्‍ना लाल पांडेय ने बताया कि यहां देश के सभी प्रांतों के अलावा विदेशों से भी लोग आते हैं। कुंड की साफ-सफाई के अलावा यहां टेंट लगाने आदि का काम पूरा हो चुका है। आने वाले यात्रियों को किसी प्रकार की तकलीफ न हो इसका विशेष ध्‍यान रखा जाता है।

मिलती है पितृदोष से मुक्ति
बताते हैं कि पिशाचमोचन कुंड पर तर्पण और श्राद्ध करने से पितृदोष के अलावा अन्‍य कई प्रकार के दोषों से मुक्ति मिलती है। अकाल मृत्‍यु, प्रेतबाधा आदि से मुक्ति के लिए भी यहां पीपल के पेड़ में कील से सिक्‍के चुनवाए जाते हैं। मान्‍यता है कि इससे घरों को भी प्रेतबाधा से मुक्ति मिलती है।

देखिये वीडियो 

देखिये तस्वीरें 

Loading...