वाराणसी। केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा प्राप्त बीएचयू के आईआईटी की छात्राएं देर रात एक बार फिर सड़क पर थी और उनके हाथ में थी थाली, प्लेट और गिलास जिसे बजाकर वो मेस में मिल रहे खराब खाने का विरोध कर रही थीं। दो दिन पहले भी विश्वविद्यालय के त्रिवेणी हॉस्टल की लडकियां सड़क पर आयी थी और आईआईटी निदेशक का घेराव किया था और यही मुद्दा था।

तब दो दिन का आश्वासन आईआईटी के निदेशक प्रोफ़ेसर प्रमोद कुमार जैन से मिला था पर आज भी उसी कंपनी ने जब भोजन परोसा तो लड़कियों ने मेस का वाकआउट कर दिया। इस अनोखे प्रदर्शन के बाद एक बार फिर आईआईटी के निदेशक ने उन्हें आश्वासन दिया है।

विज्ञापन
Loading...

इस सबंध में आईआईटी गर्ल्स हॉस्टल की छात्राओं ने बताया कि हमारे मेस में खाना बहुत खराब दिया जाता है, जिसे खाकर जुलाई से लेकर अब तक कई छात्राएं बीमार हो चुकी हैं। हमने इसकी शिकायत कई बार प्रशासन से की पर कोई सुनवाई नहीं हुई। हमने दो दिन पहले जब निदेशक का घेराव किया था तो हमें दो दिन का आश्वासन दिया था, पर आज उसी कंपनी ने भोजन परोसा तो हम सभी प्रदर्शन पर मजबूर हुए।

छात्राओं का कहना था कि सेन्ट्रल यूनिवर्सिटी में इतना खराब खाना मिल रहा है। यह आश्चर्य की बात है। हम अपने घरों को छोड़कर यहां आये हैं और यहां विश्वविद्यालय प्रशासन अच्छा खाना भी मुहैया नहीं करवा पा रहा है। इस प्रदर्शन के बाद एक बार फिर आईआईटी के निदेशक प्रोफ़ेसर प्रोफ़ेसर प्रमोद कुमार जैन ने छात्राओं को एक हफ्ते का आश्वासन दिया है।

देखिये वीडियो 

 वीडियो 

Loading...