कमि‍श्‍नर ने की अपील, अपने दैनिक व्यवहार में लाएं स्‍वच्‍छता

वाराणसी। कमिश्नरी ऑडिटोरियम में वाराणसी, मिर्जापुर, आजमगढ़, गोरखपुर, प्रयागराज तथा अयोध्या सहित 6 मंडलों के समस्त नगर निगम, नगर पालिकाएं व टाउन एरिया चेयरमैन व अधिशासी अधिकारियों का एक दिवसीय स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 पर कार्यशाला आयोजन किया गया।

स्वच्छता ही सेवा है
कार्यशाला का दीप प्रज्वलित कर शुभारंभ करते हुए वाराणसी मंडल के कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री के संदेश “स्वच्छता ही सेवा है” को हर आमजन अपने अंतर्मन से दैनिक व्यवहार व कार्य में लाए। स्थानीय निकायों में प्रशासनिक व्यवस्था से साफ-सफाई कार्य को मानकों के अनुरूप समयबद्ध क्रियान्वित किया जाए। इसमें लापरवाही नहीं हो तथा सीवर टैंकों के साफ-सफाई जैसे कार्यों को पूरे सुरक्षा मानकों से हो।

सफाईकर्मियों को दें प्रशिक्षण
वहीं केके भगत ने बताया कि मानवीय तरीके से जोखिमभरी सफाई प्रतिबंधित है। नगर निगम व नगर पालिकाए सीवर टैंको की साफ-सफाई वाले कार्मिकों को समुचित प्रशिक्षण हो। प्रशिक्षणयुक्त कार्मिक ही सीवर टैंको की साफ-सफाई का कार्य करें तथा सुरक्षा की पूरे मानक अपनाए जाएं। सीवर सफाई में दुर्घटनावश यदि किसी कार्मिक की आकस्मिक मृत्यु होती है तो उसके परिवार को तत्काल 10 लाख रुपए आर्थिक सहायता का प्रावधान है।

नगर निगम व नगर पालिकाएं आदि को सीवर टैंक साफ सफाई उपकरणों की खरीद हेतु कम ब्याज पर ऋण सुविधा उपलब्ध है। सफाई कार्मिकों को विभिन्न लाभकारी योजनाओं में नगरय ब्याज पर ऋण सुविधा की व्यवस्था है।

दिल्ली से आए संयुक्त परामर्शदाता जेबी रविंद्र ने नगर निगमो व निकायों में साफ-सफाई व उसके परीक्षण आदि के टिप्स सुझाये।

इस अवसर पर महापौर मृदुला जायसवाल, नगर आयुक्त सहित 6 मंडलों के नगर निगमों एवं नगर निकायों के चेयरमैन तथा अधिशासी अधिकारी आदि लोग प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

Loading...